भारत सरकार के रक्षा राज्यमंत्री से शौर्य संस्था के प्रतिनिधिमंडल ने की मुलाक़ात।◆शहीद किशन दुबे की प्रतिमा स्मारक बनाने की मांग की।

जमशेदपुर/ चांडिल : 8 जुलाई ’24: सोमवार: निजी दौरे पर चांडिल आए भारत सरकार के रक्षा राज्यमंत्री व रांची के लोकप्रिय सांसद संजय सेठ से जमशेदपुर की सामाजिक संस्था शौर्य के एक प्रतिनिधिमंडल ने संस्था के संस्थापक अमरजीत सिंह राजा के नेतृत्व में मुलाक़ात कर अभिनंदन किया एवं एक मांग पत्र सौंपा।परिडीह स्थित काली मंदिर में संस्था के प्रतिनिधिमंडल ने वर्षो से लंबित शहीद किशन दुबे की प्रतिमा लगाने हेतु एक मांग पत्र सौंपा। साथ ही रक्षा राज्यमंत्री के माध्यम से देश के गृहमंत्री श्री अमित शाह को भी इन भावनाओं से अवगत कराते हुए मांग पत्र भेजा हैं। प्रतिनिधिमंडल में मुख्य रूप से शाहिद किशन दुबे के अनुज रवि शंकर दुबे, संस्था के संस्थापक अमरजीत सिंह राजा, पूर्व सैनिक सेवा परिषद के सुशील सिंह, भाजपा नेता दिनेश कुमार व कुलवंत सिंह बंटी उपस्थित थे।श्रीनगर के बारामुला सेक्टर की लीपा घाटी में 9 जुलाई 2015 को पाकिस्तानी फौज की ओर से की गई गोलीबारी से लोहा लेते हुए जमशेदपुर के कीताडीह स्थित त्रिमूर्ति चौक के समीप निवास करने वाले भारतीय सीमा सुरक्षा बल के 23 वर्षीय वीर जवान किशन दुबे वीरगति को प्राप्त हो गए थे।मरणोपरांत उनके परिवार की मांग थी कि उनके सुपुत्र शहीद किशन दुबे की एक प्रतिमा टाटानगर रेलवे स्टेशन गोलचक्कर या जमशेदपुर के किसी प्रमुख गोलचक्कर या स्थल पर लगाई जाए ताकि उनकी शहादत को सदियों तक याद रख जा सके। परंतु बड़े दुर्भाग्य की बात हैं कि लगभग 9 वर्ष बीतने को हैं और 9 जुलाई को 9 वी शहादत दिवस भी हैं, तब भी जमशेदपुर के इस युवा शहीद को उसका सम्मान नहीं मिला। परिवार परस्पर यह मांग उठाता रहा हैं परन्तु यह धरातल पर होता प्रतीत नहीं होता। संस्था के संस्थापक अमरजीत सिंह राजा ने बताया की संस्था के स्थापना दिवस पर आयोजित शहीद सम्मान समारोह में शहीद किशन दुबे जी की माता श्रीमती जगमाया देवी जी ने पुनः मंच से यह मांग उठायी थी। जिसे गंभीरता से लेते हुए शौर्य संस्था के द्वारा ठोस पहल की गयी और आज एक मांग पत्र सौंपा गया।माननीय केंद्रीय मंत्री संजय सेठ ने भी आश्वस्त किया कि इस विषय को गंभीरता से लेते हुए इसे जल्द पूर्ण करने का कार्य करेंगे ताकि जमशेदपुर के इस गौरवमय शहादत को प्रणाम करते हुए शहीद किशन दुबे की प्रतिमा लगाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Chamakta Bharat Content is protected !!