देव दीपावली का महापर्व, नदियों में गंगा स्नान करने की लगी भीड़

आज कार्तिक मास की पूर्णिमा है और इस तिथि पर देव दीपावली का पर्व मनाया जाता है, हिंदू धर्म में कार्तिक मास की पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है, शास्त्रों में सभी 12 महीनों में कार्तिक महीने को आध्यात्मिक एवं शारीरिक ऊर्जा संचय के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया है, आइए जानते हैं कार्तिक माह की पूर्णिमा का इतना महत्व क्यों है ।

धार्मिक मान्यता के अनुसार, कार्तिक पूर्णिमा की तिथि पर भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक राक्षस का वध किया था,जिससे देवगण बहुत प्रसन्न हुए और भगवान विष्णु ने शिवजी को त्रिपुरारी नाम दिया जो शिव के अनेक नामों में से एक है । त्रिपुरासुर के वध होने की खुशी में सभी देवता स्वर्गलोक से उतरकर काशी में दीपावली मनाते हैं ।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन सूर्योदय से पहले उठकर पवित्र नदी में स्‍नान करें, मान्‍यता है कि इस दिन पवित्र नदियों में स्‍नान करने से पुण्‍य की प्राप्‍ति होती है । अगर पवित्र नदी में स्‍नान करना संभव नहीं तो घर पर ही नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर स्‍नान करें । इसी क्रम में आज शहर की महिला भी गंगा स्नान कर रही है और उनका मानना है कि आज के दिन सूर्योदय से पहले स्नान करने से घर में सुख समृद्धि आती है और सारी मनोकामना पूर्ण हो जाती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Chamakta Bharat Content is protected !!