बागबेड़ा विकास समिति ने बंद पड़े जलापूर्ति योजना एवं पंचायतों मे जमे कचरे को उठाव एवं निष्पादन के लिए उपयुक्त को सौंपा झारखंड सरकार के नाम पत्र

सामाजिक संस्था बागबेड़ा विकास समिति का कहना है कि वर्ष 2015 में बागबेड़ा छोटा गोविंदपुर जलापूर्ति योजना कार्य का शिलान्यास हुआ था छोटा गोविंदपुर क्षेत्र में जलापूर्ति योजना वर्ष 2019 में ही शुरू हो चुकी परंतु बागबेड़ा क्षेत्र में ठेका कंपनी एवं प्रशासन के सुस्त रवैया के कारण अब तक पाइप लाइन बिछाने का कार्य भी पूरा नहीं हो सका, साथ ही आदित्यपुर से बागबेड़ा के बीच जलापूर्ति योजना का पाइप ले जाने के लिए खरकाई नदी में बनाए जाने वाले ब्रिज का कार्य भी अब तक अधूरा पड़ा है । बागबेड़ा क्षेत्र में पेयजल की घोर संकट है, बागबेड़ा क्षेत्र की जनता वर्षों से जलापूर्ति योजना को लेकर संघर्ष कर रही है ।

वहीं दूसरी ओर बागबेड़ा क्षेत्र के 7 पंचायतों में कचरे का अंबार है, गंदगी के कारण क्षेत्र की जनता हमेशा जानलेवा बीमारी से जूझते रहते हैं, परंतु राज्य सरकार ने अब तक बागबेड़ा क्षेत्र से कचरे उठाव एवं निष्पादन को लेकर कोई भी अस्थाई नीति नहीं बनाई है ।

साथ ही उन्हें चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यदि 90 दिनों के अंदर बागबेड़ा क्षेत्र में जलापूर्ति योजना का कार्य शुरू नहीं हुई एवं कचरे के उठाव को लेकर राज्य सरकार ने स्थाई नीति नहीं बनाया तो बागबेड़ा विकास समिति बाध्य होकर लोकतांत्रिक तरीके से चरणबद्ध आंदोलन चलाएगी, जिसकी सारी जवाबदेही राज्य सरकार की होगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Chamakta Bharat Content is protected !!