बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के रिटायर्ड जवान द्वारा पोटका में अफसरशाही हावी होने की वकालत

पोटका : पोटका प्रखंड अंतर्गत टांगराईन गांव के 107 वी: वाहिनी सीमा सुरक्षा बल करगिल लड़ाई के लड़ाकू ,भूतपूर्व सहायक उप निरीक्षक पद पर सेवानिवृत्त माधव सिंह मुंडा ने पोटका प्रखंड में विभिन्न विभागों पर अफसरशाही रवैया हावी होने की वकालत की। इन्होंने क्षेत्र में बच्चों एवं महिलाओं में पोषण की कमी को देखते हुए दूध आपूर्ति हेतु बड़े पैमाने पर डेयरी फार्म करते हुए गव्य पालन करने का योजना बनाया था। जिसके लिए उनको अंचल कार्यालय में भूमि सत्यापन की आवश्यकता पड़ी। मगर अंचलाधिकारी पोटका द्वारा एक पर एक बहाना बनाते हुए उसको टालते गए जबकि मैंने उसके सभी अहरर्ताओं को पूरा किया। मगर आज तक भूमि सत्यापन नहीं हो पाया। वे कहते हैं की हम देश के रक्षकों के साथ अगर अधिकारी ऐसा व्यवहार करते हैं तो साधारण जनसमूह पर वे कैसा व्यवहार करेंगे यह साफ जाहिर हो रहा है।
वे कहते हैं कि इन अफसरों का हुडका जाम करने के लिए मैंने अगले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में चुनाव लड़ने का मन बना लिया है।सच्चे लोकतंत्र की प्राण प्रतिष्ठा तभी संभव है जब समाज सुखी हो ,अफसरशाही बंद हो, घूसखोरी बंद हो। पोटका में ग्रामों की स्थिति अत्यंत दयनीय है चाहे वह शिक्षा के दृष्टि से हो या आर्थिक दृष्टि से हो या स्वच्छता की दृष्टि से हो या चिकित्सा की दृष्टि से हो भारत गांवों का देश है गांव का जब तक विकास नहीं होगा तब तक देश या राज्य विकास संभव नहीं है।

माधव सिंह मुंडा, एक्स बीएसएफ जवान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Chamakta Bharat Content is protected !!