आज दिनांक 13 जनवरी को पूर्वी सिंहभूम जिला के गृह रक्षकों का एक प्रतिनिधि मंडल एडवोकेट संजय जी एवं पूर्व जिला सचिव गृह रक्षक कमल कुमार शर्मा के नेतृत्व में माननीय विधायक झारखंड विधानसभा सदस्य पोटका विधायक पूर्वी सिंहभूम से साक्षात्कार कर एक स्मार पत्र सौंपा गया

आज दिनांक 13 जनवरी 2021 को पूर्वी सिंहभूम जिला के गृह रक्षकों का एक प्रतिनिधि मंडल एडवोकेट संजय जी एवं पूर्व जिला सचिव गृह रक्षक कमल कुमार शर्मा के नेतृत्व में माननीय विधायक झारखंड विधानसभा सदस्य पोटका विधायक पूर्वी सिंहभूम से साक्षात्कार कर एक स्मार पत्र सौंपा गया इस पत्र में मांग की गई है कि जमशेदपुर जिला में विधि व्यवस्था ड्यूटी में संधारण हेतु गृह रक्षकों की अधि सीमा में वृद्धि को लेकर ध्यान आकृष्ट किया गया है बताया गया है कि पूर्वी सिंहभूम जिला का संयुक्त बिहार के समय से ही विधि व्यवस्था ड्यूटी हेतु 250 गृह रक्षकों का सुकृत बल निर्धारित किया गया है इस बल में भी पूर्व की सरकार द्वारा 50 गृह रक्षकों की कटौती कर स्वीकृत बल की संख्या 200 गृह रक्षकों का कर दिया गया है जबकि इस संदर्भ में गृह विभाग रांची का पत्रांक 1569 दिनांक 15 अप्रैल 2008 मुख्यालय झारखंड गृह रक्षा वाहिनी रांची के द्वारा निर्गत पत्र 30-8 -2011 जमशेदपुर पुलिस अधीक्षक कार्यालय के ज्ञापांक 1002 दिनांक 4 अप्रैल 2008 उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम कार्यालय के ज्ञापांक 754 दिनांक 7 दिसंबर 2011 स्थानीय जिला प्रशासन के द्वारा गृह विभाग झारखंड सरकार रांची प्रधान सचिव को पत्र प्रेषित कार अनुरोध किया गया पूर्वी सिंहभूम जिला अंतर्गत विधि व्यवस्था संधारण हेतु प्रतिनियुक्त होने वाले गृह रक्षकों की आधि सीमा मैं वृद्धि कर 600 गृह रक्षकों करने हेतु आवश्यक कार्रवाई करने की कृपा की जाए खेद का विषय है जिला प्रशासन के अनुरोध को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया गया गृह विभाग द्वारा इस बिंद पर आज तक कोई निर्णय नहीं लिया गया नाही न्यायोचित कार्यवाही अपनाई गई पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद जमशेदपुर लोकसभा क्षेत्र श्री अर्जुन मुंडा मेरे द्वारा दिए गए स्मार पत्र पर दिनांक 13 जनवरी 2010 को अपनी अनुशंसा सचिव झारखंड सरकार रांची को पत्र भेजकर की गई थी इसी प्रकार इसी प्रकार जमशेदपुर लोक सभा सांसद डॉ अजय कुमार के द्वारा भी प्रशिक्षण प्राप्त गृह रक्षकों की समस्या के संबंध में11 जून 2012 को उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम मुख्य सचिव झारखंड सरकार को लिखकर पत्र निर्गत किया गया उपमहानिरीक्षक झारखंड गृह रक्षा वाहिनी मुख्यालय रांची के द्वारा दिनांक 13-10- 2010 को लिखा गया पत्र में आज फास्ट किया गया है कि गृह रक्षकों की संख्या विधि व्यवस्था एवं संगठनात्मक कार्यों के लिए उपायुक्त / पुलिस अधीक्षक के प्रस्ताव के आधार पर गृह विभाग झारखंड सरकार रांची द्वारा तय की जाती है वर्ष 2002 में 22 जिला हेतु प्रतिनियुक्त होने वाले गृह रक्षकों की आधी सीमा निर्धारित की गई है इस संबंध में आवश्यकता के अनुसार ही समय-समय पर आधी सीमा में बढ़ोतरी की सुकृति गृह विभाग द्वारा दी गई है वर्तमान समय में गृह रक्षकों की प्रतिनियुक्ति की अधिक सीमा में वृद्धि करना आवश्यक प्रतीत होता है क्योंकि वर्ष 2002 के बाद आवश्यकता अनुसारकुछ झीलों के लिए ही आधी सीमा में वृद्धि की गई है जिला की आवश्यकता के अनुसार मांग के अनुरूप आधी सीमा में वृद्धि करने पर विचार किया जा सकता है उल्लेखनीय है के अब झारखंड राज्य में 24 जिले हो गए हैं माननीय विधायक जी से मांग की गई है इस मामले को अपने संज्ञान में लेकर आवेदन में दिए गए पत्रों का अवलोकन समीक्षा कर जनहित में मानवीय आधार पर जमशेदपुर जिला प्रशासन के द्वारा पूर्व में दिए गए प्रस्ताव के अनुसार गृह रक्षकों की अधिक सीमा मैं वृद्धि करवाने की कृपा करेंगे जिससे गृह रक्षकों में सरकार एवं प्रशासन के प्रति आस्था बनी रहे प्रमुख रूप से निम्न गृह रक्षक दुलामहली विकास बास्के मुकेश महतो पाची या टू डू मिर्जा हादसा मेघराज मुर्मू दिनेश यादव हरे कृष्णा सिंह राजू श्रीवास्तव राजेंद्र प्रसाद रमेश प्रसाद अरुणकुमार सिंह मनोज कुमार मिश्रा संजय कुमार सिंह देवराज ओझा उमेश कुमार सिंह मुकेश झा सीता मुर्मू के अलावा काफी संख्या में गृह रक्षक गण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Chamakta Bharat Content is protected !!