साकची : बिरसा चौक, साकची गोलचक्कर पर किसान आंदोलन के आह्वान की एकजुटता में एक स्थिर प्रदर्शन किया गया

साकची : बिरसा चौक, साकची गोलचक्कर पर किसान आंदोलन के आह्वान की एकजुटता में एक स्थिर प्रदर्शन किया गया । साझा नागरिक मंच की पहलकदमी पर बुलाये गये इस कार्यक्रम में शहर के कई सामाजिक राजनीतिक धारा के नागरिकों ने अपनी भागीदारी निभाई । रामकवीन्द्र सिंह ,सुजय राय , तापस चट्टराज , सुखचन्द्र झा , गौतम बोस , कुमार चन्द्र मार्डी , सुमित राय , अशोक शुभदर्शी , बबलू , शंकर नायक , जहीरुद्दीन जी , देवाशीष , श्री एवं श्रीमती अस्थाना , राजश्री , ऋषभ , विकास , अशोक कुमार , अख्तर हसनैन , बी एन प्रसाद , तौहीद्दुल हसन , ओमप्रकाश , मंथन ,अंतस पलाश आदि सहभागियों के नाम उल्लेखनीय हैं ।
प्रदर्शनकारी बैनर के साथ छपी तख्तियाँ लिए हुए थे और नारे लगा रहे थे । कृषि विरोधी तीनों कानूनों की खामियों और उन कानूनों को वापस लेने का मुख्य स्वर तमाम नारों और तख्तियों में मुखर था । खेत ,खेती , फसल और गोदामों को कारपोरेटों के हाथ सौंप कर किसानों को भूमिहीन और कंगाल बनाने तथा आम लोगों के लिए संभव पोषक भोजन दुर्लभ कर देने का नतीजा ही ये कृषि कानून लानेवाले हैं । गाँव और खेत अभी कारपोरेटों के कब्जे से बहुत कुछ बचे हैं , उन्हें भी लूटेरी मानवभक्षी कारपोरेट कब्जे में डालना ही इन.कानूनों का असल मकसद है । इस कारण इन कानूनों को हरगिज मंजूर नहीं किया जा सकता ।
यह कार्यक्रम ठीक 12 बजे शुरू हुआ और 1 बजे तक चला । कार्यक्रम ने सबसे बड़े कृषक विरोधी अडाणी और अम्बानी के उत्पादों के बहिष्कार के आह्वान पर अमल का भी इरादा जाहिर किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Chamakta Bharat Content is protected !!